रविवार, दिसंबर 12, 2010

दोस्त ! प्रेम के लिये वर्ग दृष्टि ज़रूरी है

" झील ने मनाही दी है अपने पास बैठने की  " से लेकर " झील ने मनाही दी है अपने बारे में सोचने की " तक बहुत कुछ घटित हो चुका है । प्रेम में सोचने पर भी प्रतिबन्ध..? ऐसा तो कभी देखा न था ..और उस पर संस्कारों की दुहाई ..। और उसका साथ देती हुई पुरानी विचारधारा ..कि प्रेम करो तो अपने वर्ग के भीतर करो.. । लेकिन ऐसा कभी हुआ है ? ठीक है , प्यार के बारे में सोचने पर प्रतिबन्ध है, विद्रोह के बारे में सोचने पर तो नहीं । फिर वह विद्रोह आदिम संस्कारों के खिलाफ हो , दमन के खिलाफ हो या अपनी स्थितियों के खिलाफ़ ..।  देखिये " झील से प्यार करते हुए " कविता श्रंखला की अंतिम कविता में यह कवि क्या कह रहा है ...  

 झील से प्यार करते हुए –तीन

झील की सतह से उठने वाले बादल पर
झील ने लिखी थी कविता
मेरी उन तमाम कविताओं के ऐवज में
जो एक उदास दोपहरी को
झील के पास बैठकर
मैने उसे सुनाई थीं

कविता में थी
झील की छटपटाहट

मुझे याद है झील डरती थी
मेरे तलवार जैसे हाथों से
उसने नहीं सोचा होगा
हाथ दुलरा भी सकते हैं

अपने आसपास
उसने बुन लिया है जाल संस्कारों का
उसने मनाही दी है अपने बारे में सोचने की
जंगल में बहने वाली हवा
एक अच्छे दोस्त की तरह
मेरे कानों में फुसफुसाते हुए गुज़र जाती है
दोस्त ! प्रेम के लिये वर्ग दृष्टि ज़रूरी है

मैं झील की मनाही के बावज़ूद
सोचता हूँ उसके बारे में
और सोचता रहूंगा
उस वक़्त तक
जब तक झील
नदी बनकर नहीं बहेगी
और बग़ावत नहीं करेगी
आदिम संस्कारों के खिलाफ ।

                        शरद कोकास 
  
( स्पार्टकस और उसकी प्रेमिका वारीनिआ  के चित्र गूगल से साभार )

37 टिप्‍पणियां:

  1. जब तक झील
    नदी बनकर नहीं बहेगी
    और बग़ावत नहीं करेगी
    आदिम संस्कारों के खिलाफ ।
    prem aur bagawat ek dusare ke purak hai
    jaha prem hai usko pane ke liye aaj kal bagawat hoti hai---

    उत्तर देंहटाएं
  2. शरद जी, झील को प्रतीक बनाकर बहुत उम्दा कविताएं पेश की हैं आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  3. झील सी स्थिरता और नदी की गति, दोनों ही आवश्यक हैं जीवन के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. झील के प्रतीकात्मक रूप में सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस कविता को पढ़ते हुए ऐसा लगता है कि जीवन को उसकी विस्‍तृति में बूझने का यत्‍न करने वाले कवि हैं। जो मिल जाए, उसे ही पर्याप्‍त मान लेने वाले न तो दुनिया के व्‍याख्‍याता होते हैं और न ही दुनिया बदलने वाले। दुनिया वे बदलते हैं जो सच को उसके सम्‍पूर्ण तीखेपन के साथ महसूस करते हैं और उसे बदलने का साहस भी रखते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. निःशब्द हूँ, अपने शब्दों की अक्षमता को महसूस किया मैंने ! सिर्फ इतने ही जुटा पाया..बेहद ही गहरी और चिरस्मरणीय अभिव्यक्ति..! बधाई और दिल से नमन इस रचना को !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. झील में आदिम संस्कारों का ठहरा हुआ नीर है
    नदी में प्यार देने की, दर्द सहने की असीम संभावनाएं हैं।
    ..अच्छी लगी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  9. जब तक झील
    नदी बनकर नहीं बहेगी
    और बग़ावत नहीं करेगी
    आदिम संस्कारों के खिलाफ

    झील का नदी बन कर बहना ...यानि निर्धारित सीमाओं से बाहर आना और बनायीं हुई मान्यताओं से जूझना ....बहुत सुन्दर प्रतीक के माध्यम से आपने मन के भावों को बुना है ....सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  10. झन्नाटेदार झील...

    होश में आऊं तो कुछ कहूं...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  11. मैं झील की मनाही के बावज़ूद
    सोचता हूँ उसके बारे में
    और सोचता रहूंगा
    उस वक़्त तक
    जब तक झील
    नदी बनकर नहीं बहेगी
    और बग़ावत नहीं करेगी
    आदिम संस्कारों के खिलाफ

    गोया सोचना और न सोचना अपने अख्तियार में है। शरद साहब, झील के बारे में सोचना कभी नहीं थम सकेगा, कभी नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. झील के बारे में सोचना कभी नहीं थम सकता ।सुंदर कविता ,झील से गहरे भाव ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. उसने नहीं सोचा होगा ,
    हाथ दुलरा भी सकते हैं।
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति। बधाई शरद भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच
    इस के बारे मे तो सोचा ही न था

    उत्तर देंहटाएं
  15. 7.5/10

    बेहतरीन / लाजवाब
    कई पाठकों ने सुन्दर समीक्षा की है.
    प्रतिक्रियाएं पढ़कर यकीन हुआ कि यहाँ सचमुच उत्कृष्ट कविताओं के पाठक हैं

    उत्तर देंहटाएं
  16. ठहर गई सामाजिकता का प्रेम ,कवि को नापसंद है तो इसे स्वाभाविक ही मानूंगा !

    उत्तर देंहटाएं
  17. अच्छा लग रहा है यूँ हर बार अलग अलग ढंग से उसी झील से मिलना और उसे और बेहतर जानना

    उत्तर देंहटाएं
  18. मैं झील की मनाही के बावज़ूद
    सोचता हूँ उसके बारे में
    और सोचता रहूंगा
    उस वक़्त तक
    जब तक झील
    नदी बनकर नहीं बहेगी
    और बग़ावत नहीं करेगी
    आदिम संस्कारों के खिलाफ ...


    बहुत खूब शरद जी ... कई बार द्वंद सुलगते रहते हैं अंदर अंदर ही ... सही समय की तलाश में ... ये सोचना निरंतर सुलगना ही बदलाव की शुरुआत है ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. झील को प्रतीक बनाकर बहुत कह दिया …………एक स्त्री मनोभावो को भी चित्रित कर दिया साथ ही पुरुष भाव भी मुखरित हो गये…………सच संस्कारों की बेडियो मे जकडी नारी कभी खुद से न्याय नही कर पाती…………एक बार बहना जरूरी है नदी की तरह ……………बेहद उम्दा प्रस्तुति दिल को छू गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आज इस श्रृंखला की तीनो कविताएँ एक साथ पढ़ीं...
    बेहद ख़ूबसूरत कविताएँ ...जिनपर कुछ कहना मुश्किल....
    बस बार -बार पढने को ही प्रेरित करती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  21. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 14 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  22. जब तक झील
    नदी बनकर नहीं बहेगी
    और बग़ावत नहीं करेगी
    आदिम संस्कारों के खिलाफ
    ....bahut saarthak sandesh deti rachna ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. मैं झील की मनाही के बावज़ूद
    सोचता हूँ उसके बारे में
    और सोचता रहूंगा
    उस वक़्त तक
    जब तक झील
    नदी बनकर नहीं बहेगी
    और बग़ावत नहीं करेगी
    आदिम संस्कारों के खिलाफ ।
    .
    बेहतरीन कविता ..........काबिलेतारीफ .

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति.........मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत ही गहन भावों को समेटे बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  26. दोस्त ! प्रेम के लिये वर्ग दृष्टि ज़रूरी है

    बहुत गहन अभिव्यक्ति...प्रेम को वर्ग द्रष्टि से बांटने वालों के खिलाफ विद्रोह समय की आवाज़ है..बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  27. मैं झील की मनाही के बावज़ूद
    सोचता हूँ उसके बारे में
    और सोचता रहूंगा
    उस वक़्त तक
    जब तक झील
    नदी बनकर नहीं बहेगी
    और बग़ावत नहीं करेगी
    आदिम संस्कारों के खिलाफ

    बहुत सुन्दर कोकाश साहब , लगता है मनो आपके अन्दर का कोई खिलापत आन्दोलन बाहर उमड़ रहा हो !

    उत्तर देंहटाएं
  28. झील की छटपटाहट,नदी बनने का विचार ,मेरी कविता के एवज में,
    वाह ! क्या बात है.
    शरद ! बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  29. झील आकर्षण देती है तो नदी साथ में चलने की प्रेरणा |दोनों का अपना सोंदर्य और बोध है |बहुत सुंदर कविता \

    उत्तर देंहटाएं
  30. पीड़ा तो दोनों ही जगह है चाहे वह झील हो या मन !
    झील की गहराई में गहन संवेदना छुपी है !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  31. ब्लॉग जगत में पहली बार एक ऐसा सामुदायिक ब्लॉग जो भारत के स्वाभिमान और हिन्दू स्वाभिमान को संकल्पित है, जो देशभक्त मुसलमानों का सम्मान करता है, पर बाबर और लादेन द्वारा रचित इस्लाम की हिंसा का खुलकर विरोध करता है. साथ ही धर्मनिरपेक्षता के नाम पर कायरता दिखाने वाले हिन्दुओ का भी विरोध करता है.
    इस ब्लॉग पर आने से हिंदुत्व का विरोध करने वाले कट्टर मुसलमान और धर्मनिरपेक्ष { कायर} हिन्दू भी परहेज करे.
    समय मिले तो इस ब्लॉग को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    .
    जानिए क्या है धर्मनिरपेक्षता
    हल्ला बोल के नियम व् शर्तें

    उत्तर देंहटाएं