शुक्रवार, फ़रवरी 28, 2014

शरद कोकास का नया कविता संग्रह " हमसे तो बेहतर हैं रंग " दख़ल प्रकाशन ,दिल्ली द्वारा प्रकाशित ।
collection of poem - ' Hamse To Behatar Hain Rang '  By - Sharad Kokas , Published By Dakhal Prakashan Delhi

16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत-बहुत बधाई आपको और पाठकों को भी ..।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (28-02-2014) को "शिवरात्रि दोहावली" (चर्चा अंक : 1537) में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. काव्य संग्रह के लिए हार्दिक बधाई...
    नमोः नमः हे शम्भुनाथ, नमोः नमः हे सोमेश्वर !
    महा शिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें....................!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद संजय , यह पुस्तक अब ऑनलाइन उपलब्ध है

      हटाएं
  4. हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई काव्य संग्रह के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बहुत बधाई शरद जी ... हार्दिक शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद दिगम्बर जी ,ब्लॉग में तो बहुत पढ़ीं अब पुस्तक में भी आ गई हैं ...

      हटाएं
  6. जहाँ न पहुचा रवि' बहाँ पहुचे कवि मित्र ।Seetamni. blogspot. in

    उत्तर देंहटाएं