शुक्रवार, जून 08, 2012

1988 की कवितायें नींद न आने की स्थिति में लिखी कविता –तीन

और यह एक छोटी सी कविता , जो दर असल छोटी नहीं है -

नींद न आने की स्थिति में लिखी कविता –तीन



नींद न आने की स्थिति में
तारे गिनने का उपदेश देने वाले
खुद कभी तारे नहीं गिनते

उनके और तारों के बीच
हमेशा एक छत होती है
हमारी मिहनत से बनाई हुई ।

                        शरद कोकास 

8 टिप्‍पणियां:

  1. सच मे बडी बात कही। कैसे हैं कोकास जी? बहुत दिनो बाद आने के लिये क्षमा चाहती हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद निर्मला जी । अच्छा हूँ । आप की कुशलता की कामना करता हूँ ।

      हटाएं
  2. सच है, हमारा पूर्वश्रम ही तारे गिनने में होने वाला श्रम बचा लेता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर कविता, और सच मे एक दम नई व्याख्या / बल्कि नया थॉट !! प्रवीण पाण्डेय संक्षिप्त लेकिन प्रेरक टिप्पणियाँ देते हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  4. लेकिन हमारी छत के कारण ही वे तारों के सौन्दर्य से भी वंचित रहते हैं । सुन्दर प्रयोग ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. "उनके और तारों के बीच
    हमेशा एक छत होती है
    हमारी मेहनत से बनाई हुई।"
    बहुत खूब...!

    उत्तर देंहटाएं
  6. तब तो हम सब इस अपराध के भागी हुए । ऐसी छत के नीचे तो हम भी सोते हैं खास कर अब जब छत पे सोना दूर की बात हो गई ङै ।

    उत्तर देंहटाएं