शुक्रवार, जून 03, 2011

भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान सबा अंजुम के बहाने एक कविता

          
सबा अंजुम जब नन्ही सी थी जब वह हमारे घर के सामने से केलाबाड़ी स्थित सुराना कॉलेज के पीछे वाले मैदान में हॉकी खेलने जाया करती थी । उसके कोच तनवीर अक़ील अपने साथ मोहल्ले के तमाम लड़के लड़कियों को लेकर सुबह सुबह मैदान में पहुँच जाते और लगभग नौ बजे तक वे खिलाड़ियों से प्रैक्टिस करवाते । उन बच्चों को देखकर लगता ही नहीं था कि दुर्ग जैसे एक छोटे से शहर के मोहल्ले की टीम की तरह खेलने वाले इन्ही बच्चों में भविष्य की भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान भी हो सकती है ।
छठवीं कक्षा में वह मोहल्ले के हिन्दी माध्यम के शासकीय आदर्श कन्या शाला में भरती हो गई । उसके बाद वह आगे ही बढ़ती गई । जब भी वह अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी टीम के साथ स्वर्ण पदक लेकर लौटती उसका स्वागत बहुत ज़ोर शोर से होता । हम लोगों के लिए तो वह मोहल्ले की बेटी ही है और उसकी शिक्षिका श्रीमती लता कोकास के लिये एक प्रिय छात्रा । वह विदेश से लौटती तो मोहल्ले भर में सारे लोगों से मिलती । हमारे घर भी आती ।  ऐसे ही एक बार उसके लिए मैंने यह कविता लिखी थी सन 2002 में , दर असल सिर्फ उसके लिये नहीं बल्कि उसके जैसी तमाम बेटियों के लिये जिनमें प्रतिभा तो होती है लेकिन इस समाज में वह प्रतिभा परवान नहीं चढ़ पाती । आज उसके भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान बनने पर उसकी टीचर लता कोकास के आग्रह पर यह कविता … 
आज के अखबार नई दुनिया मेँ छपी खबर 



स्वण॔पदक जीत कर लाने वाली बेटियाँ



घर में उसका आना

आने से पहले जाने में नहीं हो सका

इसलिए होने में रह गया

अपने होने में वह उसी तरह बड़ी हुई

जैसे कि और लड़कियाँ बड़ी होती हैं



अब वह बड़ी हुई तो घर से निकली

स्कूल से निकली

खेल के मैदान से निकली

और जब देश से निकली

तो स्वण॔पदक लेकर ही घर लौटी



यह  पूरा चक्र उसके पिता के चेहरे पर

इस अभिमान से स्थापित  हुआ

सबा के पहले कोच तनवीर अक़ील 
कि विश्वास ही नहीं होता था पहले कभी

वहाँ अपने आप के लिए धिक्कार था

और यह चक्र जो उसके पीछे

ठीक प्रभामंडल की तरह दिखाई देता था

उसके मित्र सहपाठी गुरुजन पड़ोसी

सभी के लिए गर्व का मुखौटा बन गया


और छोटे शहर के अखबारों के लिए

जहाँ एक छोटी सी खबर भी

बहुत दिनों तक बिका करती थी

यह सब कुछ एक बम्पर ऑफर की तरह ही था



जैसा कि उसके छोटे शहर में घट रहा था

अपनी स्थानीयता में एक उपलब्धि लिये

देश के कुछ और शहरों में घट रहा था

ऐसा इसलिये कि वह ऐसे खेल में नहीं थी

जिसमें कोई राष्ट्रीय किस्म का पागलपन शामिल हो

और युद्ध से लेकर चुनावों तक

जिसके अंतर्राष्ट्रीय उपयोग की संभावना हो



बस यहीं तक कहानी है

लता कोकास व सबा अंजुम 

एक असाधारण लड़की के इस किस्से में

और भविष्य के बखान में साधारणीकरण का खतरा है

फिर भी कथ्य के निर्वाह के लिये

यह बतलाना ज़रूरी है

कि यह दहलीज़ उसकी अंतिम दहलीज़ नहीं थी

या कि वह इस दहलीज़ से निकली तो

फिर दूसरी से नहीं निकल पाई

कोई उल्लेखनीय गोल भी नहीं कर पाई

और उसने जीवन भर सहे अत्याचार

इस समाज रूपी रेफरी के इशारों पर



वह चलती रही उसके जैसी अन्य बेटियों की तरह

भारतीय महिला हॉकी टीम 
धीरे धीरे तब्दील होती गई

माँ ,चाची .फूफी और दादी में

खेल भावना से सहती रही जीवन भर हार

लड़ती रही पुरुष के पारम्परिक दम्भ से

जिनके गिरने में ही उसका उठना और

उठने में गिर जाना था

और हौसला सिर्फ बच्चों को समझाने लायक शेष था



फिर कोई ग्लैमर नहीं रहा ज़िन्दगी में

सोने से कीमती औरतपन की कोई कीमत नहीं रही

पदक पुरस्कार ममता के तराजू पर तौले जाते रहे

जीवन भर चलती रही ज़द्दोज़हद

एक अच्छी बहू अच्छी पत्नी अच्छी माँ का

प्रमाणपत्र पाने के लिये ।

                  
                              -  शरद कोकास 




( समाचार , अखबार नई दुनिया रायपुर से साभार )  
                                                                                 

                                   


20 टिप्‍पणियां:

  1. सबा अंजुम को भारतीय होकी टीम की कप्तान होने पर हार्दिक बधाइयाँ! ये हमारे देश के लिए गर्व की बात है जो सबा अंजुम ने कर दिखाया है और सिर्फ़ मुझे ही नहीं बल्कि पूरे देश को फक्र है! बहुत सुन्दरता से आपने सबा अंजुम के बारे में लिखा है और रचना भी लाजवाब लगा! चित्रों के साथ बेहतरीन प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  2. तकदीर की यही विडंबना है । कितनी ही प्रतिभाएं यूँ ही वक्त की गर्द में दबकर रह जाती हैं ।
    शायद सब सबा अंजुम जैसी भाग्यवान नहीं होती ।
    सच है क्रिकेट के अलावा सब खेल और खिलाडी गुमनाम ही रह जाते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सबा अंजुम ने छत्तीसगढ का नाम रौशन किया और राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाई। शुभकामनाएं


    और आपको बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सबा अंजुम को हार्दिक बधाइयाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सबा अंजुम को मुबराक!! आप ने बहुत अच्छा तोहफ़ा दिया इस लेख ओर इस सुंदर रचना के रुप मे, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. सबा अंजुम को हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. शरद जी ,
    सबा तक हमारी ढेरों शुभकामनाएँ और मुबारकबाद पहुंचा दीजियेगा लेकिन उस से पहले सबा की शिक्षिका और कोच को बहुत बहुत मुबारक हो
    आप से भी धन्यवाद कहना चाहती हूँ इतनी अच्छी और रोचक जानकारी के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सबा अंजुम को भारतीय होकी टीम की कप्तान होने पर हार्दिक बधाइयाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. पदक पुरस्कार ममता के तराजू पर तौले जाते रहे

    जीवन भर चलती रही ज़द्दोज़हद

    एक अच्छी बहू अच्छी पत्नी अच्छी माँ का

    प्रमाणपत्र पाने के लिये ।

    बहुत ही उद्वेलित कर गयी कविता...

    सबा अंजुम को हार्दिक बधाई....और उनकी शिक्षिका लता कोकास को भी मुबारकबाद.....उनकी छात्रा ने उनका सर गर्व से ऊँचा कर दिया है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. saba anjum jim ko badhaai.............chhatisgarh ko badhaai ,,,,sharad kokas ji ko badhaai !

    bahut hi marmpoorna kavita ...jai ho !

    उत्तर देंहटाएं
  11. Bhaai sharad ji aapne bahut hee dil se ye sab likha hai aur anjum bitiya aise hee sneh kee hakdaar hai. aakhir poore 36 garh kaa swaabhiman hai

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह आपका तो खैर कोई जवाब ही नहीं. सचमुच बहुत अच्छा लगता है अपने सामने यूं बड़े होते बच्चों को देश का नाम ऊंचा करते देख

    उत्तर देंहटाएं
  13. किसी भी शिक्षक के लिए गर्व का विषय है॥

    उत्तर देंहटाएं
  14. उन्हे बधाई और आपको बधाई और धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  15. लता जी को उनकी शिष्‍या के इस पायदान के पहुंचने की और आपको सृजन सम्‍मान के लिए हार्दिक बधाईया।

    ---------
    ब्‍लॉग समीक्षा की 20वीं कड़ी...
    आई साइबोर्ग, नैतिकता की धज्जियाँ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. globlized khelon ke daur me hockey ko yaad karna bahut achha laga

    उत्तर देंहटाएं