गुरुवार, अक्तूबर 07, 2010

नवरात्र कविता उत्सव में आपका स्वागत है


               शरद नवरात्र में प्रतिदिन एक कवयित्री की कविता

कल आश्विन शुक्ल प्रतिपदा से शरद नवरात्र प्रारम्भ होने जा रहा है । वर्ष में दो बार आने वाले इस पर्व पर मैं विगत दो नवरात्र से कवयित्रियों की कविताएं प्रस्तुत करता आ रहा हूँ । इस श्रन्खला में सर्वप्रथम मैंने हिन्दी की कवयित्रियों की कविताएँ प्रस्तुत की थीं । उसके अगले नवरात्र में विदेशी कवयित्रियों की कविताओं के हिन्दी अनुवाद प्रस्तुत किये थे । आप सब ने इन कविताओं को पढ़ा था एवं इनकी सराहना की थी और भरपूर टिप्पणियों के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी । 
            आप सभी के स्नेह एवं प्रोत्साहन के फलस्वरूप इस नवरात्र में भी मै यह श्रन्खला जारी रखना चाहता हूँ । इस बार इस श्रन्खला में आप पढ़ेंगे भारतीय भाषाओं की कवयित्रियों की कवितायें । इनमें मैंने सिंधी , मराठी , असमिया , पंजाबी , तेलगु , मलयाळम , मैथिली , डोगरी व उर्दू की कविताएँ शामिल की हैं । कविताओं के हिन्दी अनुवाद  कुछ कवयित्रियों द्वारा स्वयं  किये गए हैं और कुछ अनुवादकों द्वारा ।
            इनमें से अधिकांश कवयित्रियों की कविताओं का चयन मैंने साहित्य अकादमी की द्वैमासिक पत्रिका “ समकालीन भारतीय साहित्य “ से किया है । समकालीन भारतीय साहित्य के सम्पादक प्रसिद्ध आलोचक व लेखक श्री प्रभाकर श्रोत्रिय से मेरा संवाद हुआ है । श्रोत्रिय जी ने सहर्ष इन कविताओं को ब्लॉग पर प्रस्तुत करने हेतु अनुमति प्रदान कर दी है । मेरे सहयोगी मित्र व कवि अनुवादक तथा ब्लॉगर सिद्धेश्वर जी से भी मेरा संवाद हुआ है । उन्होनें भी हमेशा की तरह इस श्रंखला में प्रस्तुत करने के लिए कुछ कविताओं के अनुवाद किये हैं ।
            आज इस पोस्ट द्वारा मैं आप सभी से निवेदन कर रहा हूँ कल से प्रतिदिन एक विशिष्ट कविता पढ़ने के लिए इस ब्लॉग पर दिन में एक बार अवश्य पधारें । प्रत्येक कविता की प्रस्तुति से पूर्व परम्परानुसार विगत दिन के आगंतुकों का स्वागत होगा ही ।
            आज स्वागत एव धन्यवाद समकालीन भारतीय साहित्य के सम्पादक वरिष्ठ साहित्यकार प्रभाकर श्रोत्रिय जी का  । डॉ. प्रभाकर श्रोत्रिय का जन्म १९ दिसंबर, १९३८ को जावरा (मध्यप्रदेशभारत में हुआ। हिंदी आलोचना में प्रभाकर श्रोत्रिय एक महत्वपूर्ण नाम है । आलोचना के अलावा भी साहित्य में उनका प्रमुख योगदान रहा है । खास कर नाटकों व निबंध के क्षेत्र में । उन्होंने कम नाटक लिखे पर जो भी लिखे उसने हिंदी नाटकों को नई दिशा दी। पूर्व में मध्यप्रदेश साहित्य परिषद के सचिव एवं 'साक्षात्कार' 'अक्षरा' के संपादक रहे हैं एवं भारतीय भाषा परिषद के निदेशक एवं 'वागर्थ' के संपादक पद पर कार्य करने के साथ-साथ वे भारतीय ज्ञानपीठ नई दिल्ली के निदेशक पद पर भी कार्य कर चुके हैं ।  आप अनेक महत्वपूर्ण संस्थानों के सदस्य हैं।

( प्रभाकर श्रोत्रिय जी का चित्र गूगल से साभार )

32 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह...........छा गये गुरू,,,

    एक बार फिर से पढूंगा फुर्सत में...........

    उत्तर देंहटाएं
  2. सराहनीय प्रयास .इंतज़ार रहेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्‍वागतम !

    कल से हम भी शमशेर पर श्रंखला आरंभ कर रहे हैं--रूह के तारों पे 'शम्‍स'

    उत्तर देंहटाएं
  4. इसी बहाने अच्छी रचनाएँ पढने को मिलेंगी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ख़ुशी हुई जानकार कि अच्छी-अच्छी कवितायें पढने को मिलेंगी

    उत्तर देंहटाएं
  6. अभिनंदनीय प्रयास के लिए शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अति श्रेष्ठ और सराहनीय, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. @उत्तम - यह कुछ अलग तरह का काम है जो कविता के अलावा अनुवाद के महत्व को भी रेखांकित करता है । तुमने पिछले दो नवरात्र के समय की पोस्ट नही देखी होगी । उन्हे अवश्य देखना । आगे चलकर इसमे मुझे तुम्हारी ज़रूरत भी होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. हार्दिक अभिनंन्दन ....कल से प्रतीक्षा रहेगी

    उत्तर देंहटाएं
  10. अत्यंत सराहनीय प्रयास है आपका । शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. कल से इंतज़ार रहेगा...चुनी हुई सुन्दर कविताओं का..

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप की रचना 08 अक्टूबर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/10/300.html



    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  13. " okay sir ..intezar rahega "

    ---- eksacchai { AAWAZ }

    राहुल गाँधी याने .. सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली |

    http://eksacchai.blogspot.com/2010/10/blog-post_07.html#links

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी प्रस्तुति। नवरात्रा की हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  15. .

    शरद जी,
    आपका प्रयास स्तुत्य है । डॉ. प्रभाकर श्रोत्रिय जी के बारे में जानकर अच्छा लगा। आगे का इंतज़ार रहेगा।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  16. अच्छे कार्य के लिए हार्दिक शुभकामनाएं शरद भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बेहतरीन पोस्ट .
    नव-रात्रि पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत बढिया …………अब तो इंतज़ार है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत अच्छा और सार्थक प्रयास...
    नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  20. जी, कल से इन्तजार रहेगा. शुभकामनाएँ.

    या देवी सर्व भूतेषु सर्व रूपेण संस्थिता |
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ||

    -नव-रात्रि पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं-

    उत्तर देंहटाएं
  21. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं