बुधवार, मई 26, 2010

यह कविता उस पसीने के बारे में नहीं है ।

उफ़ यह गर्मी , उफ़ यह पसीना ।कहते हैं गर्मी के बारे में सोचने से गर्मी कम नहीं होती और पसीने के बारे में सोचने से पसीना बहना कम नहीं होता ।मैंने भी एक बार पसीने के बारे में सोचने की कोशिश की थी और बन गई एक कविता । अब इसे पढ़कर यह न कहियेगा कि पसीने के बारे में मैंने आपकी सोच बदल दी है , और यह भी कि कवि भी कितने पागल होते हैं हम पसीना न बहे इसके लिये उपाय कर रहे हैं और ये न जाने क्या क्या सोच रहे हैं । ठीक है , मैं भी तो यही कह रहा हूँ कि यह कविता उस पसीने के बारे में नहीं है ।


पसीना

उन्माद के दौरान
हथेलियों से उपजा पसीना यह नहीं
उन बादलों का पसीना है
जो भरसक कोशिश करते हैं
हमारे खेतों में बरसने की
 
जान बचाने के लिये पैरों में पड़े
डरपोक का पसीना यह नहीं
उस वर्दी का पसीना है
जो हमारी आपकी रक्षा में
छलनी हो जाने के लिये
हरदम तैयार रहती है
 
कोड़े बरसाने वाले
आततायी की देह से उपजा
पसीना यह नहीं
उस हथौड़े का पसीना है
जिसकी एक एक चोट
हमारे बच्चों के लिये
निवाला लेकर आती है

हुस्न को जकड़ लेने के लिये बेताब
बाँहों का पसीना यह नहीं
सर पर ढोई जा रही ईटों का पसीना है
जो छाँव के लिये छत बनाते हैं
यह हाथ ठेले के पहियों का पसीना है
जो आपकी सुविधायें ढोता है
 
पेट भर खाने से उपजी
उर्जा का पसीना यह नहीं
मुनाफे की भागदौड़ से आया
पसीना यह नहीं

यह उस धरती का पसीना है
जिसके बनाये मेहनत और पसीने के
समीकरण को
आपने अपने हक़ में ठीक कर लिया है |

                            शरद कोकास                       

53 टिप्‍पणियां:

  1. पसीने को क्या खूब उकेरा है आपने...हर उस पसीने को सलाम.....

    कुंवर जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. जान बचाने के लिये पैरों में पड़े
    डरपोक का पसीना यह नहीं
    उस वर्दी का पसीना है
    जो हमारी आपकी रक्षा में
    छलनी हो जाने के लिये
    हरदम तैयार रहती है

    उम्दा रचना कोकास साहब !

    उत्तर देंहटाएं
  3. yah paseene ki boond nahin hain
    ye hain mahnat ka moti

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. सर पर ढोई जा रही ईटों का पसीना है
    जो छाँव के लिये छत बनाते हैं
    यह हाथ ठेले के पहियों का पसीना है
    जो आपकी सुविधायें ढोता है

    जीवन के यथार्थ को बताती खूबसूरत रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  5. ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है


    mere blog per jaroor dekhen
    विलुप्त नहीं हुई बस बदल गई हैं पंरंपराएं.......!!!
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com/2010/05/blog-post_26.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर... यही लोग सम्मान के काबिल है, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. पेट भर खाने से उपजी
    उर्जा का पसीना यह नहीं
    मुनाफे की भागदौड़ से आया
    पसीना यह नहीं

    यह उस धरती का पसीना है
    जिसके बनाये मेहनत और पसीने के
    समीकरण को
    आपने अपने हक़ में ठीक कर लिया है |



    इस पूरी कविता की सबसे महत्वपूर्ण पंक्तिया .जो पूरी कविता को समेट देती है ....ओर उसे सही अर्थ भी .......

    जानते है शरद जी ....आपके ब्लॉग पर पीछे कई बार टिपियाने की कोशिश की .पर शायद कुछ टेक्नीकल प्रोब्लम थी जो मोज़िला में आपका ब्लॉग नहीं खुल पा रहा था ...अब ठीक है .

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह उस धरती का पसीना है
    जिसके बनाये मेहनत और पसीने के
    समीकरण को
    आपने अपने हक़ में ठीक कर लिया है |

    बड़े भाई ,,,,बहुत अच्छा लिखा है ,,,,पसीने में भी कोई बात होती हैआपकी कविता से ये लगा ....पसीने का सबंध एक आम इंसान से बहुत प्रगाढ़ है ,,,,आपकी रचना पढ़कर पसीने की हर बूँद से प्रेम होना कोई आश्चर्य नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  9. पसीने पर यहाँ भी कुछ है एक नज़र डाले http://athaah.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. पेट भर खाने से उपजीउर्जा का पसीना यह नहीं
    मुनाफे की भागदौड़ से आयापसीना यह नहीं
    ...jindagi ke jadojahad ko darshat samvedansheel chitramayee prastuti ke liye aabhar..

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपके ब्लॉग खुलने में दिक्कत आती है ,,,कई बार follow करने की कोशिश की ,,,हो सकता है मेरे यहाँ ही कोई तकनिकी समस्या हो

    उत्तर देंहटाएं
  12. यह उस धरती का पसीना है
    जिसके बनाये मेहनत और पसीने के
    समीकरण को
    आपने अपने हक़ में ठीक कर लिया है |
    हम तो मुरीद हो गये इस शिल्प के. मेहनत और पसीने के समीकरण को आपसे बेहतर कौन बयान कर सकता है

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बढ़िया .. कमाल है ये नज़रिया भी ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर लिखा आपने .. सच में पसीने के भी कई रूप और उसकी गरिमा होती है .. बहुत खूब !!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. यह उस धरती का पसीना है
    जिसके बनाये मेहनत और पसीने के
    समीकरण को
    आपने अपने हक़ में ठीक कर लिया है |
    कितनी सुन्दर कविता!!!! शब्दातीत. पसीने को इस तरह भी परिभाषित किया जा सकता है....!

    उत्तर देंहटाएं
  16. ैक्या आप जानते है.
    कौन सा ऐसा ब्लागर है जो इन दिनों हर ब्लाग पर जाकर बिन मांगी सलाह बांटने का काम कर रहा है।
    नहीं जानते न... चलिए मैं थोड़ा क्लू देता हूं. यह ब्लागर हार्लिक्स पीकर होनस्टी तरीके से ही प्रोजक्ट बनाऊंगा बोलता है। हमें यह करना चाहिए.. हमें यह नहीं करना चाहिए.. हम समाज को आगे कैसे ले जाएं.. आप लोगों का प्रयास सार्थक है.. आपकी सोच सकारात्मक है.. क्या आपको नहीं लगता है कि आप लोग ब्लागिंग करने नहीं बल्कि प्रवचन सुनने के लिए ही इस दुनिया में आएं है. ज्यादा नहीं लिखूंगा.. नहीं तो आप लोग बोलोगे कि जलजला पानी का बुलबुला है. पिलपिला है. लाल टी शर्ट है.. काली कार है.. जलजला सामने आओ.. हम लोग शरीफ लोग है जो लोग बगैर नाम के हमसे बात करते हैं हम उनका जवाब नहीं देते. अरे जलजला तो सामने आ ही जाएगा पहले आप लोग अपने भीतर बैठे हुए जलजले से तो मुक्ति पा लो भाइयों....
    बुरा मानकर पोस्ट मत लिखने लग जाना. क्या है कि आजकल हर दूसरी पोस्ट में जलजला का जिक्र जरूर रहता है. जरा सोचिए आप लोगों ने जलजला पर कितना वक्त जाया किया है.

    उत्तर देंहटाएं
  17. आज तो आपने वो कर दिया.................जिसे गज़ब कहते हैं

    हाय ! मज़ा आ गया.........

    उत्तर देंहटाएं
  18. सिर्फ 'अद्भुत' कहूं तो चलेगा भैया? :)

    उत्तर देंहटाएं
  19. सरल शब्दों मे मेहनत की कमाई का पसीना है। इस पसीने को पोंछे नही जाते। देखते रहते हैं पसीने से खून निकलना कब शुरु हो। महलो मे अट्टालिकाओ मे रहने वाले लोगों द्वारा। बाकी तो बडे भाई के लिखे मा मै का टिपियाये पाहू।

    उत्तर देंहटाएं
  20. यह उस धरती का पसीना है
    जिसके बनाये मेहनत और पसीने के
    समीकरण को
    आपने अपने हक़ में ठीक कर लिया है |
    --बहुत ही अच्छी कविता है.इसमें उर्जा है,अर्थ है,सन्देश है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. ये सिक्स पैक एब्स बनाने के लिए ,
    रात भर ट्रेड मिल पर पसीना बहाते हैं ,
    ताकि पेट बाहर ना आये ।

    वे सड़क पर, खेतों में , दिन भर पसीना बहाते हैं ,
    ताकि जब शाम ढले ,
    तो पेट में कुछ तो जाये ।

    दिल के तार झन्का दिए आपने ।
    हम शहरी लोग तो पसीना भी व्यर्थ करते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. यह उस धरती का पसीना है
    जिसके बनाये मेहनत और पसीने के
    समीकरण को
    आपने अपने हक़ में ठीक कर लिया है |
    iss paseene ko naman aur kavi ko bhi, jisane paseena bahaa kar paseene par sarthaklikha.

    उत्तर देंहटाएं
  23. खरे पसीने की खरी कविता |पसीने का सही अर्थ जिन्दगीकी सचाइयो की अनुभूति कराती उत्कृष्ट रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  24. yahi paseena asli paseena hai. haqikat bayan karti kavita padhwane ke liye aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  25. यह उस धरती का पसीना है
    जिसके बनाये मेहनत और पसीने के
    समीकरण को
    आपने अपने हक़ में ठीक कर लिया है ...

    पसीने की भी कितने आयाम ... कितने अर्थ हैं ... मेहनत और पसीना दोनो साथ साथ ही आते हैं ...
    सधे हुवे शिल्प की तरह आपकी है आपकी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. इस पसीने कि एक एक बूँद में गर्व है खूबसूरती है खुशबू है

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपकी यह कविता एक बार नहीं अनेक बार पढ़ी है....और इस रचना पर टिप्पणी देने में खुद को असमर्थ ही पाया है....

    आपने सटीक चित्र उकेर दिए हैं इस कविता में...

    उत्तर देंहटाएं
  28. अंतिम पंक्तियां वर्तमान व्यवस्था के सत्व से रूबरू कराती हैं।
    अच्छी कविता।
    शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  29. शरदजी आपकी कविता ने खून से भी कीमती बना दिया पसीने को... प्रभावशाली रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  30. बेहद उम्दा शरद भाई ! लगे रहिये शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  31. आदरणीय शरद जी...सादर प्रणाम....आपने मेरी दो साधारण सी कविताओं पर बहुत ही प्रेरक और चिंतन योग्य सुझाव दिए थे ....उनपर सश्रम यथासंभव प्रयास कर ....कुछ नया लिखने का प्रयास किया है ...आपके सुझावों का बेसब्री से इन्तजार रहेगा ....मैं आपको उस रचना की लिंक देता हूँ ....अवश्य आये ..ब्लॉग जगत पर आप ही मेरे मार्गदर्शक गुरु हो ...मैंने देखा टिप्पणी पाना बहुत आसान है परन्तु उत्तम लिखना बहुत मुश्किल और यह तब ही संभव हो सकता है जब कुछ बुद्धिजीवी और कला के पारखी सुझाव दे ...प्रतीक्षा में http://athaah.blogspot.com/2010/05/blog-post_28.html

    उत्तर देंहटाएं
  32. यह धरती से सोना उपजाने, पहरेदारी करने वाले पसीनो की कविता है ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  33. पसीने पर लिखी यह रचना मेरी तिप्प्नी के पसीने निकाल रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  34. आपकी यह पोस्ट ..चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर मंगलवार १.०६.२०१० के लिए ली गयी है ..
    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  35. सच ! अभी पुरुष में इतनी ताकत नहीं, जो मेरा सामना करे, किसमें है औकात ? http://pulkitpalak.blogspot.com/2010/05/blog-post_31.html मुझे याद किया सर।

    उत्तर देंहटाएं
  36. आईये, मन की शांति का उपाय धारण करें!
    आचार्य जी

    उत्तर देंहटाएं
  37. आह...कविता है या पसीने की महक को खूश्बू-खूश्बू करता हुआ कोई सुगंधि पाउडर?

    my salute, sir!

    उत्तर देंहटाएं
  38. हमेशा की तरह, बेहद सशक्त - बेहद संवेदनशील रचना।
    पसीना बोए बिना मोती नहीं उगते।

    उत्तर देंहटाएं
  39. अनूप ले रहे हैं मौज : फुरसत में रहते हैं हर रोज : ति‍तलियां उड़ाते हैं http://pulkitpalak.blogspot.com/2010/06/blog-post.html सर आप भी एक पकड़ लीजिए नीशू तिवारी की विशेष फरमाइश पर।

    उत्तर देंहटाएं
  40. आप इस जमीन की कविता लिखते हैं और कमाल लिखते हैं ।

    यह उस धरती का पसीना है
    जिसके बनाये मेहनत और पसीने के
    समीकरण को
    आपने अपने हक़ में ठीक कर लिया है |
    क्या खूब ।

    उत्तर देंहटाएं
  41. पसीना बहाने वालों को नमन !
    …और आपकी लेखनी को भी

    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    उत्तर देंहटाएं
  42. आईये जानें .... मैं कौन हूं!

    आचार्य जी

    उत्तर देंहटाएं