रविवार, मई 16, 2010

दो लोग क्या करेंगे इस दुनिया का


  कभी कभी ऐसा होता है कि बातें काम नहीं करतीं और कविता अपना काम कर जाती है | इन दिनों जो कुछ भी चल रहा है ब्लॉग जगत में वह सब जानते हैं | मुझे एक मित्र ने सलाह दी कि आप चुप क्यों हैं आप को भी कुछ कहना चाहिये | मैं ठहरा एक सीधा-सादा कवि , मैं क्या कहूँ और क्यों कहूँ ? ऐसा भी नहीं कि मैने कुछ कहा नहीं ,जहाँ कहना चाहिये और जितना कहना चाहिये वह तो मैंने कहा ही है | आज इस बारे में सोचते हुए अचानक कवि केदारनाथ सिंह की यह कविता दिखाई दे गई सो उद्धृत कर रहा हूँ । इसे पढिये इसके ध्वन्यार्थ निकालिये और इस कविता में जो सवाल है उसके बारे में सोचिये |
            दो लोग
तुमने अकेले आदमी को पहाड़ से उतरते देखा है
मैं कहूँगा - एक कविता
एक शानदार कविता

मगर उन्हे तुम क्या कहोगे
वे दो लोग जो उस पेड़ के नीचे बैठे हैं
महज दो लोग

कितने घन्टो कितने दिन कितनी शताब्दियॉ से
वहाँ बैठे है दो लोग
क्या तुम बता सकते हो ?

दो लोग ज़रा देर बाद उठेंगे
और समूचे शहर को अपनी पीठ पर लादकर
किसी नदी या पहाड़ की तरफ़ चल देंगे दो लोग

दो लोग क्या करेंगे इस दुनिया का
तुम कुछ नहीं कह सकते !
दो लोग फ़िर लौटेंगे
किसी भरी दोपहरी में सड़क के किनारे
तुम्हे अचानक मिल जायेंगे दो लोग
मगर क्यों  दो लोग
और हमेशा दो लोग

क्या  1 को तोड़ने से बन जाते हैं 2 लोग

दो लोग तुम्हारी भाषा में ले आते हैं
कितने शहरों की धूल और उच्चारण
क्या तुम जानते हो

दो लोग
सड़क के किनारे महज चुपचाप चलते हुए दो लोग
तुम्हारे शहर को कितना अनंत बना देते हैं
तुमने कभी सोचा है ?  

                 केदारनाथ सिंह

( चित्र में - दो लोग , केदार जी और शरद कोकास ,शरद कोकास के  घर में )
 

47 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर! दो लोगों का शुक्रिया अदा करना चाहिये जिसके कारण इतनी सुन्दर कविता पढ़ने को मिली।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनवरत पर टिप्पणी और इस कविता के बाद भी --- '' मैं ठहरा एक
    सीधा-सादा कवि , मैं क्या कहूँ और क्यों कहूँ ? '' , इतना झूठ बोलते
    हैं कवि ? / ! > :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर्! कविता सब स्पष्ट कर गई....

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी रचनाओं पर टिपण्णी करना ही मेरे लिए किसी ...खुशनसीबी से कम नहीं ....आपकी रचनाओं पर टिपण्णी करके मैं उनका अपमान नहीं कर सकता ...बस इतना कहूँगा की आप थोड़े झूंठे तो है :) आप एक साधारण कवि नहीं ....एक महान कवि है ....बस अपना स्नेह हम पर बनाये रखे ..हम आपसे कुछ-ना - कुछ सीखते ही रहते है ...अपने सुझाव देकर हमें कुछ आधार दे ...धन्यवाद ..एक सुन्दर कविता को हम तक लाने के लिए दिल से शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  5. इतनी सुन्दर कविता पढ़वाने के लिए आपको धन्यवाद शरद जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर कविता पढ़वाई आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  7. "सड़क के किनारे महज चुपचाप चलते हुए दो लोग
    तुम्हारे शहर को कितना अनंत बना देते हैं
    तुमने कभी सोचा है ?"

    बहुत सुन्दर कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  8. हमेशा एक सामान नहीं होते दो लोग
    कभी-कभी एक के आगे दूसरा छुप जाता है
    या
    दूसरे के साथ होने से ही दिख पाता है.
    ...........


    सड़क के किनारे महज चुपचाप चलते हुए दो लोग
    तुम्हारे शहर को कितना अनंत बना देते हैं..

    ...सुंदर कविता के पढ़वाने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. केदारजी की कविता के विषय में क्या कहना ! वह हमारी संस्कृति-समीक्षा होती है । आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर भावपूर्ण कविता..शरद जी प्रस्तुति के लिए आभार पढ़ कर अच्छा लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूबसूरत रचना : शायद कविता ने वह सब कहा जो कविता में भी नहीं लिखा गया.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर कविता पढ़वाने के लिए आपको धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  13. केदारनाथ जी की बेहतरीन कविता पढवाने का धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  14. अपने कंधे पर ऐसा हाथ मुझे भी चाहिए
    मैं एक ही होना चाहता हूं
    दो होने की दरकार नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बडे मन अपन ल छोटे कहिथे एही उन्खर बड़प्पन आय्। कविता बर का लिखे जाय्। वो तो खुदे अपन भाव पूर्ण होये के बयान करत हे। आज अक्ती तिहार अउ परशुराम जयन्ती के बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  16. दो लोग बहुत होते हैं, दुनिया उलटने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बने कविता लिखे हस भैया,
    बरा ला तेल में चुरथे तभे वो हां बरा होथे-पानी मा नई चुरय।

    बने कविता हे-
    अक्ति तिहार के गाड़ा-गाड़ा बधई
    आवा पुतरी-पुतरा के बिहाव रचाई

    जोहार

    उत्तर देंहटाएं
  18. आप दो लोगों की बात करते हैं शरद भाई
    जमाना इतना बदल गया है कि एक अकेला आदमी भी यदि ठान तो बहुत कुछ कर सकता है.यही एक वजह है कि नए जमाने के लोग-अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता है जैसे मुहावरे का प्रयोग कम करते हैं। बहरहाल कविता अच्छी है। केदारनाथजी बड़े कवि है, यदि उन्होंने दो लोगों को ध्यान में रखकर कविता लिखी है तो कुछ सोचकर ही लिखी है। बाकी आपकी बातें टिप्पणियों के तौर पर मिल गई थी. उस पर धीरे-धीरे अमल चालू कर रहा हूं। देखो कब तक करता हू।

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपके लिए ग़ालिब का एक शेर तोड़ मरोड़ कर :

    है कुछ ऐसी ही बात , जो चुप हैं आप
    वरना क्या बात कर नहीं आती ।

    सीधे सादे कवि , करें इतनी मुश्किल बात
    वाह वाह सब करें , पर समझ क्या आती ?

    वैसे केदारनाथ जी की कविता लाज़वाब है ज़नाब ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. Do log milkar bahut kuch achha kar sakte hain.... bus yadi dhun ke paake hon...
    bahut sundar bharpurn chintanprad rachna ke liye aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  21. sundar aur arthpurna kavita padhwane ke liye shukriya bhai sahab

    उत्तर देंहटाएं
  22. क्या 1 को तोड़ने से बन जाते हैं 2 लोग

    दो लोग
    सड़क के किनारे महज चुपचाप चलते हुए दो लोग
    तुम्हारे शहर को कितना अनंत बना देते हैं
    तुमने कभी सोचा है ?

    सटीक बात कही है....ये तोडने की प्रवृत्ति बहुत से प्रश्नों को जन्म देती है....एक खूबसूरत रचना ..आभार पढवाने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत बढ़िया रचना ....
    परशुराम जयंती पर हार्दिक शुभकामनाये ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. jnaab men or aap yaaani do logon ki hi yeh duniya he isliyen hm do log or likhne vaale do haathon ko nmn krte hen . akhtar khan akela kota rajsthan meraa hindi blog akhtarkhanakla.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  25. शरद भाई,
    ये एक दो एक के चक्कर में फंसने की जगह कालिया ने गोली खा लेना ही बेहतर समझा...

    ये चक्कर इतना ज़ालिम है कि इस पोस्ट को लिखते ही मेरा ब्रॉडबैंड बैठ गया...बीएसएनएल वालों की संडे को बड़ी मिन्नतें कर इसे जुड़वाया है...

    वैसे दो एक से बड़ा है तो एक को सबसे बड़ा क्यों कहते हैं...क्या सवाल विचारणीय नहीं है...

    वैसे मेरे ब्लॉग पर नापसंद के चटके गुणात्मक तौर पर बढ़ रहे हैं...एक से दो, दो से चार...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  26. क्या 1 को तोड़ने से बन जाते हैं 2 लोग

    दो लोग
    सड़क के किनारे महज चुपचाप चलते हुए दो लोग
    तुम्हारे शहर को कितना अनंत बना देते हैं
    तुमने कभी सोचा है ?

    शरद भी.....बहुत खूब. एक जेहनियत वाले दो लोग मिल जाएँ तो क्या नहीं हो सकता....फिर केदार जी और आपका युग्म तो न जाने क्या क्या अद्भुत परिणाम ले के आएगा...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  27. @ राजकुमार सोनी

    एक अकेला आदमी आज इतना पॉवरफुल हो गया है कि ब्‍लॉग के माध्‍यम से सब कुछ फोड़ सकता है और चनों को तो काले होने तक भून सकता है बशर्ते उसको ब्‍लॉग बनाने और उसका स्‍वामी होने का ज्ञान हो।

    उत्तर देंहटाएं
  28. शरद जी ,
    बुरा न मानिएगा , मुझे तो यह केदारनाथ सिंह जी ज्यादा अच्छे लगते हैं----

    रुको, आँचल में तुम्हारे
    यह समीरन बांध दूँ , यह टूटता प्रण बांध दूँ .
    एक जो इन उँगलियों में
    कहीं उलझा रह गया है
    फूल-सा वह कांपता क्षण बांध दूँ!

    फेन-सा इस तीर पर
    हमको लहर बिखरा गयी है!
    हवाओं में गूंजता है मन्त्र-सा कुछ
    सांझ हल्दी की तरह
    तन-बदन पर छितरा गयी है!
    पर रुको तो-
    पीत पल्ले में तुम्हारे
    फ़सल पकती बांध दूँ !
    यह उठा फागुन बांध दूँ!
    ...................
    ...................
    ...................

    धूप तकिये पर पिघल कर
    शब्द कोई लिख गयी है,
    एक तिनका ,एक पत्ती,एक गाना-
    साँझ मेरे झरोखे की
    तीलियों पर रख गयी है !
    पर सुनो तो--
    खुले जूडे में तुम्हारे
    बौर पहला बांध दूँ .
    हाँ, यह निमंत्रण बांध दूँ !
    ('तीसरा सप्तक' से )

    उत्तर देंहटाएं
  29. महिलाओं में श्रेष्ठ ब्लागर कौन- जीतिए 21 हजार के इनाम
    पोस्ट लिखने वाले को भी मिलेगी 11 हजार की नगद राशि
    आप सबने श्रेष्ठ महिला ब्लागर कौन है, जैसे विषय को लेकर गंभीरता दिखाई है. उसका शुक्रिया. आप सबको जलजला की तरफ से एक फिर आदाब. नमस्कार.
    मैं अपने बारे में बता दूं कि मैं कुमार जलजला के नाम से लिखता-पढ़ता हूं. खुदा की इनायत है कि शायरी का शौक है. यह प्रतियोगिता इसलिए नहीं रखी जा रही है कि किसी की अवमानना हो. इसका मुख्य लक्ष्य ही यही है कि किसी भी श्रेष्ठ ब्लागर का चयन उसकी रचना के आधार पर ही हो. पुऱूषों की कैटेगिरी में यह चयन हो चुका है. आप सबने मिलकर समीरलाल समीर को श्रेष्ठ पुरूष ब्लागर घोषित कर दिया है. अब महिला ब्लागरों की बारी है. यदि आपको यह प्रतियोगिता ठीक नहीं लगती है तो किसी भी क्षण इसे बंद किया जा सकता है. और यदि आपमें से कुछ लोग इसमें रूचि दिखाते हैं तो यह प्रतियोगिता प्रारंभ रहेगी.
    सुश्री शैल मंजूषा अदा जी ने इस प्रतियोगिता को लेकर एक पोस्ट लगाई है. उन्होंने कुछ नाम भी सुझाए हैं। वयोवृद्ध अवस्था की वजह से उन्होंने अपने आपको प्रतियोगिता से दूर रखना भी चाहा है. उनके आग्रह को मानते हुए सभी नाम शामिल कर लिए हैं। जो नाम शामिल किए गए हैं उनकी सूची नीचे दी गई है.
    आपको सिर्फ इतना करना है कि अपने-अपने ब्लाग पर निम्नलिखित महिला ब्लागरों किसी एक पोस्ट पर लगभग ढाई सौ शब्दों में अपने विचार प्रकट करने हैं। रचना के गुण क्या है। रचना क्यों अच्छी लगी और उसकी शैली-कसावट कैसी है जैसा उल्लेख करें तो सोने में सुहागा.
    नियम व शर्ते-
    1 प्रतियोगिता में किसी भी महिला ब्लागर की कविता-कहानी, लेख, गीत, गजल पर संक्षिप्त विचार प्रकट किए जा सकते हैं
    2- कोई भी विचार किसी की अवमानना के नजरिए से लिखा जाएगा तो उसे प्रतियोगिता में शामिल नहीं किया जाएगा
    3- प्रतियोगिता में पुरूष एवं महिला ब्लागर सामान रूप से हिस्सा ले सकते हैं
    4-किस महिला ब्लागर ने श्रेष्ठ लेखन किया है इसका आंकलन करने के लिए ब्लागरों की एक कमेटी का गठन किया जा चुका है. नियमों व शर्तों के कारण नाम फिलहाल गोपनीय रखा गया है.
    5-जिस ब्लागर पर अच्छी पोस्ट लिखी जाएगी, पोस्ट लिखने वाले को 11 हजार रूपए का नगद इनाम दिया जाएगा
    6-निर्णायकों की राय व पोस्ट लेखकों की राय को महत्व देने के बाद श्रेष्ठ महिला ब्लागर को 21 हजार का नगद इनाम व शाल श्रीफल दिया जाएगा.
    7-निर्णायकों का निर्णय अंतिम होगा.
    8-किसी भी विवाद की दशा में न्याय क्षेत्र कानपुर होगा.
    9- सर्वश्रेष्ठ महिला ब्लागर एवं पोस्ट लेखक को आयोजित समारोह में भाग लेने के लिए आने-जाने का मार्ग व्यय भी दिया जाएगा.
    10-पोस्ट लेखकों को अपनी पोस्ट के ऊपर- मेरी नजर में सर्वश्रेष्ठ ब्लागर अनिवार्य रूप से लिखना होगा
    ब्लागरों की सुविधा के लिए जिन महिला ब्लागरों का नाम शामिल किया गया है उनके नाम इस प्रकार है-
    1-फिरदौस 2- रचना 3-वंदना 4-संगीता पुरी 5-अल्पना वर्मा- 6 –सुजाता चोखेर 7- पूर्णिमा बर्मन 8-कविता वाचक्वनी 9-रशिम प्रभा 10- घुघूती बासूती 11-कंचनबाला 12-शेफाली पांडेय 13- रंजना भाटिया 14 श्रद्धा जैन 15- रंजना 16- लावण्यम 17- पारूल 18- निर्मला कपिला 19 शोभना चौरे 20- सीमा गुप्ता 21-वाणी गीत 21- संगीता स्वरूप 22-शिखाजी 23 –रशिम रविजा 24- पारूल पुखराज 25- अर्चना 26- डिम्पल मल्होत्रा, 27-अजीत गुप्ता 28-श्रीमती कुमार.
    तो फिर देर किस बात की. प्रतियोगिता में हिस्सेदारी दर्ज कीजिए और बता दीजिए नारी किसी से कम नहीं है। प्रतियोगिता में भाग लेने की अंतिम तारीख 30 मई तय की गई है.
    और हां निर्णायकों की घोषणा आयोजन के एक दिन पहले कर दी जाएगी.
    इसी दिन कुमार जलजला का नया ब्लाग भी प्रकट होगा. भाले की नोंक पर.
    आप सबको शुभकामनाएं.
    आशा है आप सब विषय को सकारात्मक रूप देते हुए अपनी ऊर्जा सही दिशा में लगाएंगे.
    सबका हमदर्द
    कुमार जलजला

    उत्तर देंहटाएं
  30. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  31. अच्छी रचना....दो दो दो दो .............सब सभी को दो बता रहे हैं और अपने काम की दुनिया बसा रहे हैं.
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  32. मुझे भाई खुशदीप की बात गूँजती सी लग रही है - जैसे चुनौती दे रही हो कविता को गब्बर की प्रश्नावली - "वो दो थे, और तुम तीन?"
    :)
    फिर भी वापस आ गए?
    :)
    ख़ाली हाथ?
    :)
    हे राम! कभी सोचा न था कि केदारनाथ सिंह जी की कविता और गब्बर-उवाच एक साथ - एक मञ्च पर गूँजेगा।
    ख़ैर, मज़ाक़ मुआफ़!
    कविता बहुत अच्छी पढ़वाई आपने, आभार…

    उत्तर देंहटाएं
  33. kedarnath ji mere bhi priy kavi hai. unka shilp, unkaakathya nai kavitaa ko pratishthaa dene valaa hai. aaj unki ek aur pyaree kavitaa ko parh kar man prasann ho gaya. behad samyik kavitaa hai yah. itane bade kavi kasneh milaa yah dekh kar khushi hui. bade log itane hi sahaj hote hai. jaise kedarnathsingh.

    उत्तर देंहटाएं
  34. आदरणीय केदारनाथ सिंह की कविता का रसपान कराने के लिये आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  35. इस कविता के बारे में आपसे बात करूंगा तभी कुछ कहूँगा भईया... :(

    उत्तर देंहटाएं
  36. तीसरी सीट ख़ाली है…जी ललच रहा है…बुला लीजिये न…

    उत्तर देंहटाएं